ट्रैक्टर रैली में राहुल गांधी, कृषि कानूनों पर मोदी सरकार को घेरा, कहा- सबका साथ और सबका विनाश


धाकड़ खबर | 13 Feb 2021|   176

अजमेर : कृषि कानूनों के विरोध में कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने शनिवार को राजस्थान के अजमेर और नागौर जिले में किसानों की ट्रैक्टर रैली में शिरकत की. इस दौरान राहुल गांधी ने ट्रैक्टर चलाकर किसानों के समर्थन में आवाज बुलंद की. अजमेर में राहुल गांधी ने ट्रैक्टर रैली को संबोधित करते हुए मोदी सरकार के कृषि कानूनों पर सवाल उठाए. उन्होंने पीएम मोदी के बयान पर नाराजगी जताते हुए कहा ‘आप बात करने की बात करते हो और कोई किसान आपसे बात करने के लिए तैयार नहीं है.’

आंदोलनजीवी कहकर उड़ाया मजाक: राहुल गांधी

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने ट्रैक्टर रैली में मौजूद लोगों को तीनों कृषि कानूनों का मतलब भी समझाया. उन्होंने कहा हिन्दुस्तान के दो से तीन उद्योगपतियों की मदद के लिए कृषि कानूनों को लाया जा रहा है. पहले कानून से मंडी खत्म हो जाएगी. दूसरे कानून से उद्योगपति फल-सब्जी, अनाज स्टोर करेंगे. जबकि, तीसरे कानून से किसान उपज के लिए अदालत में नहीं जा सकेगा. पीएम मोदी कृषि कानूनों के खिलाफ उतरे लोगों को आंदोलनजीवी कहकर उनका मजाक उड़ाते हैं. केंद्र ने कोरोना संकट के बहाने कुछ उद्योगपतियों को लाखों करोड़ों रुपए का लाभ पहुंचाने का काम किया है.

कृषि से जुड़े करोड़ों लोगों को नुकसान: राहुल गांधी

किसानों की ट्रैक्टर रैली में राहुल गांधी ने भाजपा सरकार को ट्रैक पर लाने की बात दोहराई. ऑटोमोबाइल, एयरलाइंस और बैंकिंग बिजनेस का हवाला देते हुए जिक्र कि चार से लेकर पांच लोगों को ही फायदा मिलता है. जबकि, कृषि एक ऐसा बिजनेस है जिसे करोड़ों लोग करते हैं. हिन्दुस्तान की 40 फीसदी आबादी कृषि से जुड़ी है. मोदी सरकार ने कृषि कानूनों के जरिए सभी को नुकसान पहुंचान की कोशिश शुरू कर दी है. कृषि कानूनों से किसानों से लेकर रेहड़ी-पटरी वाले भी सड़क पर आ जाएंगे. ट्रैक्टर रैली में राहुल गांधी ने जिक्र किया कि केंद्र की मोदी सरकार कृषि कानूनों के जरिए किसानों के घर में डाका डालने की फिराक में हैं. सरकार किसानों के घर में चोरी करने की कोशिश कर रही है. वो किसानों के अधिकार को ‘हम दो, हमारे दो’ को छीनकर देने की प्लानिंग में है. सरकार एक उद्योगपति को सबकुछ देना चाहती है. वो जमाखोरी को बढ़ावा देने पर आतुर है. एक उद्योगपति के कोल्ड स्टोरेज में देश के 80 फीसदी अनाज, फल, सब्जियों की जमाखोरी की जाएगी. इससे किसानों को कम से कम पैसे में अपनी उपज को बेचने को मजबूर हो जाएगा. वो कंज्यूमर बन जाएगा.

आंदोलनजीवी कहकर उड़ाया मजाक: राहुल गांधी

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने ट्रैक्टर रैली में मौजूद लोगों को तीनों कृषि कानूनों का मतलब भी समझाया. उन्होंने कहा हिन्दुस्तान के दो से तीन उद्योगपतियों की मदद के लिए कृषि कानूनों को लाया जा रहा है. पहले कानून से मंडी खत्म हो जाएगी. दूसरे कानून से उद्योगपति फल-सब्जी, अनाज स्टोर करेंगे. जबकि, तीसरे कानून से किसान उपज के लिए अदालत में नहीं जा सकेगा. पीएम मोदी कृषि कानूनों के खिलाफ उतरे लोगों को आंदोलनजीवी कहकर उनका मजाक उड़ाते हैं. केंद्र ने कोरोना संकट के बहाने कुछ उद्योगपतियों को लाखों करोड़ों रुपए का लाभ पहुंचाने का काम किया है.

 

 

 

 

 

 


add

अन्य ख़बरें

1 2 3 4 5 6 7 8 9 10
Beautiful cake stands from Ellementry

Ellementry